भगवद् गीता की दस महत्वपूर्ण शिक्षाएँ

भगवद् गीता में धर्म को जीवन का आधार माना गया है।

धर्म का महत्व

कर्मण्येवाधिकारस्ते" का संदेश देते हुए, गीता कर्म को महत्वपूर्ण बताती है।

कर्म योग

आत्मा की अमरता और ज्ञान की शक्ति पर जोर दिया गया है।

आत्म-ज्ञान

गीता अहंकार और मोह को त्यागने की सीख देती है।

मोह और अहंकार से मुक्ति

योग को जीवन में संतुलन और शांति प्राप्त करने का माध्यम माना गया है।

योग का महत्व

हर व्यक्ति का अपना धर्म और स्वभाव होता है, जिसे समझना आवश्यक है।

स्वधर्म और स्वभाव

कर्म करते हुए फल की इच्छा न करने का संदेश।

निष्काम कर्म

ज्ञान और विज्ञान के माध्यम से सत्य की अनुभूति की बात कही गई है।

ज्ञान-विज्ञान

मता और संतोष को जीवन में अपनाने का महत्व।

समता और संतोष

ध्यान और साधना के माध्यम से आत्मा की शुद्धि।

ध्यान और साधना