Vinesh Phogat: भारत की मशहूर कुश्ती पहलवान विनेश फोगाट ने क्यों लिया खेल रत्न पुरस्कार लौटने का फैसला?

Vinesh Phogat: भारत की दिग्गज कुश्ती पहलवान विनेश फोगाट ने मेजर ध्यानचंद खेल रत्न पुरस्कार तथा अर्जुन पुरस्कार सरकार को वापस लौटने का फैसला लिया है। विनेश फोगाट ने भारतीय कुश्ती संघ के पूर्व अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ धरना प्रदर्शन में भाग लिया था। खेल रत्न पुरस्कार लौटने कि फैसले से सभी को चौंका दिया है।

न्याय नहीं मिलने पर पुरस्कार लौटने का फैसला

महिला खिलाड़ियों ने भारतीय कुश्ती संघ के पूर्व अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था। जिसके चलते 18 जनवरी को सभी पहलवानों ने दिल्ली के जंतर मंतर पर धरने पर बैठे। उन्होंने बृजभूषण पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया। जब मामला बढ़ा तो ब्रिज भूषण को अपनी कुर्सी गंवानी पड़ी। लेकिन खिलाड़ी इससे भी खुश नहीं हुआ। उनका मानना है कि न्याय अब तक नहीं मिला है। इस कारण विनेश ने अब खेल रत्न और अर्जुन पुरस्कार लौटने का ऐलान कर दिया।

बजरंग पूनिया ने भी पद्मश्री लौटाया

बृजभूषण के कुर्सी से हटाने के बाद भारतीय कुश्ती संघ में चुनाव का ऐलान हुआ परंतु इस चुनाव में भी बृजभूषण के करीबी संजय सिंह 21 दिसंबर को अध्यक्ष चुने गए। जिससे खिलाड़ियों में काफी आक्रोश उत्पन्न हो गया। संजय सिंह के अध्यक्ष बनते हैं विनेश की साथी पहलवान साक्षी मलिक ने कुश्ती छोड़ने का ऐलान कर दिया।

Also Read- SBI Clerk Prelims Admit Card 2023: एसबीआई क्लर्क भर्ती प्रारंभिक परीक्षा का एडमिट कार्ड हुआ जारी, जानें डाउनलोड करने का तरीका

उनके बाद बजरंग पूनिया ने पद्मश्री लौटा दिया और पैरा पहलवान वीरेंद्र सिंह ने भी पद्मश्री लौटने की बात की। इसके बाद खेल मंत्रालय ने भारतीय कुश्ती संघ को निलंबित कर दिया। मामला बढ़ता देखकर बृजभूषण ने कुश्ती से संन्यास की बात कर दी लेकिन खिलाड़ी इससे भी खुश नहीं है।

विनेश फोगाट का जन्म

25 अगस्त 1994 को हरियाणा के बलाली गांव में विनेश फोगाट का जन्म हुआ। विनेन का जन्म भारत के प्रसिद्ध कुश्ती परिवार में हुआ। कम उम्र में ही विनेश फोगाट के पिता की मृत्यु हो गई। उसके बाद उनके ताउ महावीर सिंह ने फोगाट बहनों को बहुत कम उम्र में ही कुश्ती खेल से परिचय करवाया। विनेश ने भी अपने चचेरी बहनों गीता फोगाट और बबीता कुमारी के नक्शे कदम पर चल पड़ी।

Also Read- ’12th Fail’ OTT Release: OTT पर जल्द रिलीज होगी “12th Fail”, जानें रिलीज डेट

कठिन ट्रेनिंग के बाद पहलवानी पर अपना रंग जमाया

विनेश को ट्रेनिंग के लिए सुबह 3:30 बजे उठ जाना पड़ता था। उसके बाद वह घंटों ट्रेनिंग करती थी। गलती होने पर मार भी पड़ती थी। ट्रेनिंग के बाद वह स्कूल भी जाया करती थी। जहां थकान के कारण हुआ क्लासरूम में ही सो जाया करती थी।

विनेश फोगाट का करियर

विनेश फोगाट ने 2014 में कॉमनवेल्थ गेम्स में पहला बड़ा अंतरराष्ट्रीय खिताब जीता था। फिर 2016 में रियो ओलंपिक के क्वार्टर फाइनल में जगह बना ली ।

हालांकि उसे दौरान वह पदक जीतने से चूक गई। इसके बाद उन्होंने 2018 में राष्ट्रमंडल खेलों और एशियाई खेलों में स्वर्ण हासिल किया। टोक्यो ओलंपिक का हिस्सा बनी। साथ ही राष्ट्रमंडल खेल 2022 में लगातार तीसरी बार स्वर्ण पदक अपने नाम किया। तीन राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला पहलवान है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *