प्रधानमंत्री मोदी ने किया दुनिया का सबसे बड़े ध्यान केंद्र “Swarved Mahamandir” का उद्घाटन

Swarved Mahamandir- World’s Largest Meditation Centre: भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में दुनिया का सबसे बड़ा ध्यान केंद्र ‘स्वर्वेद महामंदिर’ का उद्घाटन किया है। महामंदिर के इस उद्घाटन कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी भी शामिल थे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया उद्घाटन

सोमवार यानि 18 दिसंबर, 2023 को भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा स्वर्वेद महामंदिर का उद्घाटन किया गया। इस उद्घाटन कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री ने देश की इस धारोहिक और सांस्कृतिक विरासत से जुड़ा भाषण दिया।

प्रधानमंत्री ने इस सभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने काशी की अपनी यात्रा के महत्व को भी साझा किया। उन्होंने कहा कि इस पवित्र शहर में बिताया गया हर पल अभूतपूर्व अनुभवों से चिह्नित था। साथ ही पीएम ने इस ऐतिहासिक अवसर का हिस्सा बनने के लिए सभी का आभार व्यक्त किया।

इसके बाद उन्होंने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस आश्चर्यजनक ध्यान भवन का दौरा भी किया। इसके साथ प्रधानमंत्री ने महर्षि सदाफल देव जी महाराज की प्रतिमा पर श्रद्धासुमन अर्पित किए।

Also Read: Vande Bharat Train: गुरुग्राम से चंडीगढ़, अयोध्या से लखनऊ सहित कई शहरों में चलेगी वंदेभारत एक्सप्रेस, जानें टाइमिंग और स्टॉपेज

Swarved Mahamandir: विश्व के सबसे बड़ा ध्यान केंद्र

उमराहा, वाराणसी में स्थित स्वर्वेद महामंदिर ने विश्व के सबसे बड़े ध्यान केंद्र की उपलब्धि हासिल कर ली है। इस महामंदिर की इमारत सात मंजिला है और इसमें 125 कमल गुंबद बने हुए हैं। इस भवन में 20,000 सीटें उपलब्ध हैं, यानि एक समय में बड़ी संख्या में मेहमान इसमें इकट्ठा हो सकते हैं।

3,00,000 वर्ग फुट की विशाल जगह में फैला महामंदिर की इमारत पर पंद्रह इंजीनियरों और छह सौ मजदूरों ने मिलकर काम किया है। इतने विशाल महामंदिर की नींव सद्गुरु आचार्य स्वतंत्र देव और संत प्रवर विज्ञान देव ने साल 2004 में रखी थी।

अगर आप एक आध्यात्मिक साधक हैं या सांस्कृतिक प्रेमी या फिर बस किसी लुभावने वास्तुशिल्प महामंदिर की तलाश हो, तो आपको इस महामंदिर की यात्रा अवश्य करनी चाहिए।

स्वर्वेद महामंदिर की वास्तुकला

स्वर्वेद महामंदिर भारत की एक उत्कृष्ट वास्तुकला का नमूना है। इसमें बनी विशाल सुंदर जटिल संगमरमर की कलाकृतियाँ और कमल के आकार के गुंबद हमारी सांस्कृतिक विरासत का एक बेहतरीन नमूना है। मंदिर में 101 फव्वारे के साथ-साथ विस्तृत नक्काशीदार सागौन की लकड़ी के दरवाजे और छत बनी हुई है, जो कि एक उल्लेखनीय वास्तुशिल्प चमत्कार है। इस मंदिर में एक सुंदर बगीचा है, जिसमें विभिन्न प्रकार के औषधीय पौधें लगे हैं और इस मंदिर की दीवारें गुलाबी बलुआ पत्थर से सजी हैं और दीवारों पर स्वर्वेद के छंद और श्लोक उकेरे गए हैं।

Also Read: Surat Diamond Bourse LIVE: पीएम मोदी ने कन्याकुमारी और वाराणसी के बीच काशी तमिल संगम एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाई

मोदी बोले, “भारत की सामाजिक और आध्यात्मिक शक्ति का आधुनिक प्रतिनिधित्व”

स्वर्वेद महामंदिर को ध्यान और विहंगम योग के लिए दुनिया के सबसे बड़े केंद्रों में से एक का स्थान मिला है। इस प्रकार यह भारत के आध्यात्मिक केंद्रों की बढ़ती संख्या में एक अद्भुत वृद्धि है। महामंदिर के उद्घाटन के कार्यक्रम में भारत के प्रधानमंत्री मोदी ने स्वर्वेद महामंदिर को भारत की सामाजिक और आध्यात्मिक शक्ति का आधुनिक प्रतिनिधित्व बताया है।

स्वर्वेद महामंदिर के उद्घाटन के दौरान पीएम मोदी ने कहा कि, “वेद, उपनिषद, रामायण, गीता और महाभारत की दिव्य शिक्षाओं को महामंदिर की दीवारों पर चित्रों के माध्यम से खूबसूरती से चित्रित किया गया है। जब मैंने स्वर्वेद महामंदिर का भ्रमण किया तो मैं मंत्रमुग्ध हो गया।” यह भारत की सामाजिक और आध्यात्मिक शक्ति का एक आधुनिक प्रतीक है।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *