Margashirsha Purnima 2023: वर्षों बाद इस मार्गशीर्ष पूर्णिमा पर बना ब्रह्म योग का शुभ संयोग, जानें किन राशियों को होगा धन लाभ और भगवान विष्णु को प्रसन्न करने के उपाय

Margashirsha Purnima 2023: इस साल 2023 की मार्गशीर्ष पूर्णिमा 26 दिसंबर को मनाई जाएगी। इस साल की मार्गशीर्ष पूर्णिमा बेहद खास होने वाली है। हिन्दू पंचांग के अनुसार इस पूर्णिमा कई शुभ योग बन रहे हैं। यदि इस दिन कोई व्यक्ति अपने ऊपर श्री हरि विष्णु और माता तुलसी की कृपा बरसाना चाहते है, तो कुछ विशेष उपाय करके वह श्री हरि विष्णु और माता तुलसी का आशीर्वाद प्राप्त कर सकता है। साथ ही यह पूर्णिमा कुछ राशियों पर भी लाभकारी प्रभाव डालेंगी। लेकिन इससे पहले की की हम इन सब के बारे में जानें आइये जानते हैं, मार्गशीर्ष पूर्णिमा क्या है और इससे सम्बन्धित अन्य रोचक बातें।

मार्गशीर्ष पूर्णिमा क्या है?

साल की आखिरी पूर्णिमा जो मार्गशीर्ष के महीने में पड़ती है, मार्गशीर्ष पूर्णिमा कहलाती है।

मार्गशीर्ष पूर्णिमा का महत्व

सतयुग से मार्गशीर्ष माह का आरंभ हुआ। इस दिन भगवान विष्णु और तुलसी माता की पूजा का विशेष महत्व है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, मार्गशीर्ष पूर्णिमा के दिन चंद्रदेव की पूजा-अर्चना करना भी बेहद शुभ माना जाता है। इस दिन स्नान, दान, तप और पूजा-पाठ का विशेष धार्मिक महत्व होता है। इस दिन श्री हरि विष्णु के साथ माता तुलसी की पूजा-अर्चना करके धन का अभाव दूर किया जा सकता है। मार्गशीर्ष पूर्णिमा पर गंगा स्नान का भी विशेष महत्व है।

Also Read: Tulsi Pujan Diwas 2023: जानें क्या है, तुलसी पूजन दिवस का महत्व

इस साल मार्गशीर्ष पूर्णिमा की तिथि

हिन्दू पंचांग के अनुसार, साल 2023 में मार्गशीर्ष पूर्णिमा का योग 26 दिसंबर, मंगलवार को बन रहा है। यह पूर्णिमा 26 दिसंबर की सुबह 5 बजकर 46 मिनट से शुरू होकर अगले दिन 27 दिसंबर सुबह 6 बजकर 2 मिनट पर समाप्त होगी।

माता तुलसी विशेष कृपा हेतु करें यह उपाय

जो भक्त इस मार्गशीर्ष पूर्णिमा पर तुलसी माता की विशेष कृपा पाना चाहते हैं, वह निम्नलिखित उपाय कर सकते हैं।

  • माता तुलसी श्री हरि विष्णु को बेहद प्रिय है और उनका प्रिय रंग पीला है। यदि इस दिन तुलसी के पौधे में पीला कलावा या फिर पीली चुनरी चढ़ाते हैं, तो यह बेहद शुभ मन जाता है।
  • यदि आप धन की बाधा से जूझ रहें हैं, तो मार्गशीर्ष पूर्णिमा के दिन माता तुलसी के लाल कलावा बांधे।
  • मार्गशीर्ष पूर्णिमा के दिन तुलसी के पौधे के समक्ष घी का दीया जलासे घर की दरिद्रता दूर होती है।
  • मार्गशीर्ष पूर्णिमा के दिन माता तुलसी को लाल चुनरी अर्पित कर, उनकी परिक्रमा करना भी बेहद शुभ माना जाता है, ऐसा करने से सौभाग्य की प्राप्ति होती है।
  • मार्गशीर्ष पूर्णिमा के दिन माता तुलसी को दूध अर्पित भी बेहद सुबह माना जाता हैं।

Also Read: Hanuman ji: पांचों भाइयों ने बसाई गृहस्थी, हनुमान जी ने श्री राम की भक्ति में बिताया सम्पूर्ण जीवन

माता तुलसी की पूजन में इन मंत्रों का करें जाप

अगर कोई भक्त अपने ऊपर माता तुलसी की विशेष कृपा चाहता है, तो उसे पूजन के साथ-साथ कुछ विशेष मंत्रों का जाप करना चाहिए। यह मंत्रों निम्नलिखित हैं।

  • ।।तुलसी श्रीर्महालक्ष्मीर्विद्याविद्या यशस्विनी। धर्म्या धर्मानना देवी देवीदेवमन: प्रिया।। लभते सुतरां भक्तिमन्ते विष्णुपदं लभेत्। तुलसी भूर्महालक्ष्मी: पद्मिनी श्रीर्हरप्रिया।।
  • ।।ॐ श्री मत्पंकजविष्टरो हरिहरौ, वायुमर्हेन्द्रोऽनलः चन्द्रो भास्कर वित्तपाल वरुण, प्रताधिपादिग्रहाः प्रद्यम्नो नलकूबरौ सुरगजः, चिन्तामणिः कौस्तुभः स्वामी शक्तिधरश्च लांगलधरः, कुवर्न्तु वो मंगलम्।।

Also Read: हाथ जोड़कर प्रणाम करने से होती है, इन धार्मिक, ज्योतिषीय और वैज्ञानिक लाभों की प्राप्ति, जानें प्रणाम करने का सही तरीका

किन राशियों के लिए बनेगा शुभ संयोग

इस साल मार्गशीर्ष पूर्णिमा पर ब्रह्मा मुहर्त के साथ, शुक्ल योग, रूचक योग समेत कई शुभ योग बन रहे हैं। इस पूर्णिमा का योग 26 दिसंबर यानि मंगलवार को बन रहा है, अर्थात इस साल मार्गशीर्ष पूर्णिमा के दिन भक्तों को पूजा-अर्चना करने पर भगवान विष्णु और माता तुलसी का आशीर्वाद तो मिलेगा ही, लेकिन इसके अलावा कुछ राशियों पर मंगल ग्रह और हनुमानजी की भी विशेष कृपा रहेगी। इन राशियों में वृषभ राशि, सिंह राशि, धनु राशि, मकर राशि और मीन राशि शामिल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *