Leap Year 2024: क्या इस बार फरवरी में होंगे 28 के बदले 29 दिन?

Leap Year 2024: बात करें साल 2024 की तो यह एक लीप वर्ष होगा। इस वर्ष में फरवरी में 28 के बदले 29 दिन होंगे। जैसा कि हम जानते हैं हर 4 वर्षों में लीप वर्ष आता है। लोग कई तरह से 2024 को विशेष बनाने में लगे हुए हैं पर बात करें 2024 की तो यह अपने आप में ही एक विशेष वर्ष है। इस वर्ष आपको एक दिन अतिरिक्त यानी कि फरवरी में 29 दिन मिलेंगे। आपको अपने लक्ष्य को पूरा करने के लिए और एक दिन मिलेंगे ।इससे पहले 2020 एक लीप वर्ष था

कैसे निर्धारित की जाती है लीप वर्ष?

लीप वर्ष हर 4 सालों में आती है। 2024 से पहले 2020 एक लीप वर्ष था। लीप वर्ष का निर्धारण एक साधारण गणितीय फॉर्मूला से किया जाता है। जिस वर्ष को 400 से विभाजित करने पर पुरा पुरा विभाजित हो जाता है उसे लीप वर्ष माना जाता है। इसे और आसान बनाने के लिए हम अंतिम के दो संख्याओं को चार से विभाजित कर लेते हैं। उदाहरण के लिए यदि हम बात करें साल की तो 2000 लीप वर्ष था लेकिन 2100 लीप वर्ष नहीं होगा।

Also Read – Ayodhya Ram Mandir: अयोध्या राम मंदिर निर्माण पर बोले केंद्रीय सूचना प्रसारण एवं खेल मंत्री, साढ़े चार सौ साल का लंबा इंतजार खत्म होने को आया

फरवरी ही क्यों होता है 29 दिनों का

जिस वर्ष लीप वर्ष होता है उस साल में फरवरी में एक अतिरिक्त दिन जोड़ा जाता है। जैसा कि आप जानते हैं फरवरी सभी महीनो में सबसे छोटा महीना होता है इसलिए इस अतिरिक्त दिन को हम फरवरी में जोड़कर कैलकुलेशन को सही करते हैं। इस अतिरिक्त दिन को ही लीप डे के नाम से जाना जाता है।

क्यों जरूरत पड़ी इस लीप डे की?

जैसा कि हम जानते हैं पृथ्वी सूर्य का चक्कर लगाती है। पृथ्वी सूर्य के चारों ओर 365 दिन 6 घंटे में एक परिक्रमा करती है। ऐसा करने से हर वर्ष 6 घंटा शेष बच जाता है। जिससे इस बचे हुए 6 घंटे को 4 सालों के बाद जोड़कर 24 घंन्टो में बदल कर फरवरी माह में डाल दिया जाता है।

अगर हम ऐसा नहीं करते हैं तो हमारी ऋतु में तालमेल खराब हो जाएगी। क्योंकि हमारे विषुवत और ग्रीष्म और शीतकालीन संक्रांति अब ऋतुओं के साथ मैच नहीं होंगे। यदि लीप वर्ष नहीं होंगे तो हर 750 वर्षों में मौसम पूरी तरह से बदल जाएंगे। गर्मियों के बीच में ठंडिया आ जाएगी।

Also Read – Amrit and Vande Bharat Train: वंदे भारत के बाद, सुविधा से परिपूर्ण अमृत भारत ट्रेन,आईए जाने इसके बारे मे

29 फरवरी को लीप दिवस बनाने का निर्णय जुलियस सीजर द्वारा किया गया था। रोमन कैलेंडर में 355 दिन होते थे। समय के साथ कैलेंडर का ऋतुओं के साथ ताल मेल बिगड़ गया। इसीलिए सीजर ने मिस्र के कैलेंडर से प्रेरित होकर जूलियन कैलेंडर पेश किया। बाद में 1582 में जब जूलियन कैलेंडर को ग्रेगोरियन कैलेंडर में मिला दिया गया तब फरवरी में एक लीप दिवस जोड़ने की परंपरा आगे बढ़ती रही।

जाने 2024 के बाद कब आएगा लीप वर्ष

2024 के बाद 2028 लीप वर्ष होगा। यह प्रक्रिया प्रत्येक 4 वर्षों में दोहराती जाएगी। 2024 से पहले 2020 भी एक लीप वर्ष था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *