Hit and Run Law: क्या है भारत सरकार द्वारा लाया गया नया हिट एंड रन कानून जिसे लेकर पूरे देश में थम गई है गाड़ियों की रफ्तार

Hit and Run Law: देशभर में ट्रांसपोर्ट सिस्टम ठप पड़ गया है, ट्रक बस चालक ने अपने वाहनों को सड़कों पर खड़ा कर दिया है। वह सरकार द्वारा ले गए नए हिट एंड रन कानून का विरोध कर रहे हैं। जिसे लेकर राज्य भर में विरोध प्रदर्शन देखने को मिल रहा है। केंद्र सरकार ने भारतीय न्याय संहिता 2023 में हिट एंड रन मामलों में 10 साल की सजा और 7 लाख जुर्माना का प्रावधान लाया है। इसी बदलाव के कारण ड्राइवर ने विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिए हैं।

ट्रांसपोर्ट सिस्टम ने तीन दिवसीय धरना का घोषणा किया है लेकिन उन्होंने आगे कहा कि अगर सरकार इन कानून में बदलाव नहीं करती है तो यह धरना उनका अनिश्चितकाल के लिए भी चल सकता है। अगर यह प्रदर्शन तेजी पकड़ता है और कुछ दिनों तक यही हाल रहा तो ट्रांसपोर्ट व्हीकल की संख्या बढ़ जाएगी जिससे न सिर्फ तेल की कमी होगी बल्कि सप्लाई चेन भी थप पड़ जाएगा।

प्रदर्शन ने बढ़ाया वस्तुओं के दाम

ट्रांसपोर्ट सिस्टम का हड़ताल का असर उत्तर भारत से लेकर दक्षिण भारत तक देखा जा रहा है। पेट्रोल टैंकरों के ना पहुंच पाने से पेट्रोल पंप खाली हो गए हैं। जिसके कारण पेट्रोल की कीमत बढ़ गई है और वस्तुओं के दाम बढ़ाने की भी आशंका जताई जा रही है। दूसरी तरफ हिमाचल में प्रदर्शन की वजह से पर्यटन को काफी बड़ा झटका लगा है यहां टूरिस्ट को कैब की बुकिंग करने में दिक्कत आ रही है इतना ही नहीं कई जगह तो स्कूलों की बस सेवाएं भी बाधित हो रही है जिससे बच्चों की पढ़ाई पर भी असर आ रहा है।

आम नागरिकों की मुसीबतें बढ़ी

केंद्र सरकार द्वारा लाए गए नए हिट एंड रन संबंधित कानून के विरोध में पूरे देश भर के ट्रक ड्राइवर ने चक्का जाम कर दिया है।ड्राइवर का मानना है कि यह कानून गलत है और इसे वापस लिया जाना चाहिए। जाम की वजह से लोगों को आवा जाही में भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। माल ढुलाई नहीं होने के कारण कई आवश्यक वस्तुओं की कमी पड़ गई है कुछ पेट्रोल पंपों पर तो पेट्रोल की भी कमी हो गई है इससे पेट्रोल पंपों पर लंबी-लंबी कतारें लग गई है।

Also Read – Kaun Banega Crorepati 15 Grand Finale: “कौन बनेगा करोड़पति 15” के अंतिम एपिसोड में अमिताभ ने भरी आंखों से कहा अलविदा

जाने क्या है हड़ताल की असली वजह

वाहन चालकों ने तीन दिन की हड़ताल की घोषणा की है, उनका कहना है कि अगर सरकार यह कानून वापस नहीं लेती है तो यह हड़ताल अनिश्चितकालीन के लिए भी चल सकता है। केंद्र सरकार ने आईपीसी की जगह नया भारतीय न्याय संहिता कानून बनाया है।

इस कानून की धारा 104 में यह प्रावधान किया गया है कि अगर लापरवाही से गाड़ी चलाने पर किसी की मौत हो जाती है और यह मौत अगर गैर इरादतन है तो ड्राइवर को 5 साल की जेल और जुर्माना लगाया जाएगा लेकिन इसके साथ ही इस धारा में यह भी प्रावधान है कि अगर ड्राइवर लापरवाही से गाड़ी चलाकर किसी को टक्कर मार कर भाग जाता है और पुलिस को इसकी जानकारी नहीं देता है तो ड्राइवर को 10 साल की जेल और जुर्माना का प्रावधान है।

Also Read – Leap Year 2024: क्या इस बार फरवरी में होंगे 28 के बदले 29 दिन?

इसी कानून को लेकर पूरे देश भर के ड्राइवर हड़ताल पर आ गए हैं। जबकि इससे पहले आईपीसी के तहत लापरवाही से गाड़ी चलने से अगर किसी की मौत होती थी तो वाहन चालक को 2 साल की सजा या जुर्माना या फिर दोनों का प्रावधान था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *