Corona JN.1: देश में कोरोना ने फिर पकड़ी रफ्तार केरल में तीन की मौत

Corona JN.1: कोरोना के मामले देश में फिर से देखने को मिल रहे हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक देश में पिछले 24 घंटे में कोरोनावायरस के 614 नए मामले सामने आए हैं। इससे पहले 21 मई को 600 से अधिक केस मिले थे। देश में एक्टिव मामलों की संख्या 2311 हो गई है।

कोविड-19 के नए वेरिएंट जे एन 1 से देश में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। बता दे की सबसे पहले jn1 वेरिएंट से संक्रमित कोरोना का मरीज केरल में पाया गया था। जो हाल ही में सिंगापुर से घूम कर आया था।

जेएन 1 कॉविड स्ट्रेन को ‘वेरिएंट आफ इंटरेस्ट’ के रूप में वर्गीकृत किया

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने जे एन वन कोविड स्ट्रेन को वैरीअंट आफ इंटरेस्ट के रूप में वर्गीकृत किया है| लेकिन साथ ही यह भी कहा है कि इसे सार्वजनिक स्वास्थ्य को ज्यादा खतरा नहीं है। जे एन वन को पहले इसके मूल वंश BA. 2.86 के एक भाग के रूप में वैरीअंट आफ इंटरेस्ट के रूप में वर्गीकृत किया गया था ।वैरीअंट आफ इंटरेस्ट के रूप में वर्गीकृत करने के बाद अब वैज्ञानिक किसकी निगरानी करेंगे। वह देखेंगे कि यह कितनी तेजी से फैलता है? कितना बीमार बनता है? और क्या इस पर वैक्सीन असर करती है या नहीं?

केरल में तीन लोगों की हुई मौत

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार केरल में 24 घंटे के दौरान तीन लोगों की मौत हुई हैं। बता दे कि देश में कोरोना वायरस से मृतकों की संख्या बढ़कर 53321 हो गई है।

Also Read:- लोकसभा में पारित किय गए तीन आपराधिक कानून विधेयक, IPC में शामिल हुए यह प्रावधान लोगों को औपनिवेशिक मानसिकता से करेंगे मुक्त

इन देशों में भी फैला नया वेरिएंट

भारत समेत एशिया के कई देशों में कोरोना के मामले बढ़ते हुए देखे जा रहे हैं। चीन, सिंगापुर ,इंडोनेशिया फिलिपींस और मलेशिया में कोविड के मामले बढ़े हैं। क्रिसमस और नए साल की छुट्टियों से पहले यह मामले बढ़े हैं जो चिंता बढ़ाने वाले हैं। केरल में मामले आने के बाद पड़ोसी राज्यों तमिलनाडु और कर्नाटक की चिंता बढ़ गई है। हालांकि एक्सपर्ट्स का कहना है, कि इसके लक्षण बेहद सामान्य है और चिंता की कोई बात नहीं है। सितंबर में पहली बार अमेरिका में इसके मामले दिखे थे तब से यह 11 देश में फैल चुका है।

क्या है कोरोना के नए वेरिएंट जे एन 1 के लक्षण

कोरोना के नए वेरिएंट जे एन 1 के लक्षणों में यह चीज शामिल है, इसमें संक्रमित को बुखार, थकान, नाक बहना, गले में खराश, सर दर्द, खांसी, कंजेशन कुछ मामलों में स्ट्रॉइंटेस्टाइनल समस्याएं हो रही है।

Also Read:- Bigg Boss 17: मुनव्वर फारुकी की एक्स गर्लफ्रेंड, नाज़िला सीताशी ने लाइव सेशन के दौरान किए दिलचस्प खुलासे

जेएन वन पर मौजूदा वैक्सीन कितनी असरदार?

हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार कोविद-19 के वैक्सीन जेएन वन पर भी प्रभावी है। इसका मतलब यह हुआ कि मौजूदा वैक्सीन जेएन वन वेरिएंट के खिलाफ सुरक्षा प्रदान करेगी। यही कारण है कि एक्सपर्ट्स मानते हैं कि घबराने की बहुत जरूरत नहीं है लेकिन स्थितियां पर नजर जरूर रखना होगा।

कोरोना संबंधित केंद्र के निर्देश

केंद्र सरकार ने राज्यों को दी एडवाइजरी में कहा कि सभी जिले कॉविड टेस्ट करें। पॉजिटिव सैंपल जिनोम सीक्वेंसिंग के लिए लैब भेजे। मॉक ड्रिल करके समय-समय पर तैयारीयों का जायजा ले। 60 वर्ष और उससे अधिक उम्र के सभी बुजुर्गों जो गंभीर बीमारियों से पीड़ित है, गर्भवती महिलाएं और छोटे बच्चों को अनिवार्य रूप से मास्क पहनने की सलाह दी गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *