Dheeraj Sahu IT Raid: 351 करोड़ काला धन मिला कांग्रेस सांसद धीरज साहू के ठिकानों से, आयकर विभाग की कार्रवाई अभी भी जारी

हाल ही में आयकर विभाग ने कांग्रेस सांसद धीरज साहू की बेहिसाब संपत्ति का खुलासा किया है। दरअसल, 6 दिसंबर को आयकर विभाग ने धीरज साहू के कई ठिकानों पर एक साथ छापा मारा था। इसके बाद पांच दिन तक उनके सभी ठिकानों की तलाशी करने के बाद धीरज साहू की सारी बेहिसाब संपत्ति का खुलासा कर दिया है।

सांसद धीरज साहू से जुड़े परिसरों का सर्वेक्षण अभी भी जारी हैं और दस्तावेजीकरण प्रक्रिया भी जारी है। आयकर अधिकारियों ने जब्त की गई सारी राशि को ओडिशा के बलांगीर में SBI की मुख्य शाखा में जमा कर दी है। SBI के क्षेत्रीय प्रबंधक भगत बेहरा का कहना है कि शाखा सार्वजनिक लेनदेन के लिए काम करती रहेगी।

बड़ी मात्रा में पकड़ा गया कला धन

धीरज साहू के अभी ठिकानों की तलाशी में अधिकारियों ने कुल 351 करोड़ रुपये का कैश बरामद किया है। आयकर विभाग को तलाशी में कुल 176 बैग कैश मिला था। आयकर विभाग का कहना है कि अभी तक की गई सारी रेड में से यह रेड बहुत बड़ी है। इस काले धन की कीमत अभी तक की रेड में पकड़े गए किसी भी काले धन से ज्यादा है।

कई ठिकानों पर की गई छापेमारी

धीरज साहू पर की गई कार्रवाई की शुरुआत उनके शराब के कारोबार में टैक्‍स चोरी की आशंका से शुरू हुई। आशंका के बाद आयकर विभाग ने टैक्‍स चोरी के आरोप में शराब कारोबार से जुड़ी कंपनी के ठिकानों पर छापे मारे थे।

इन ठिकानों पर बौद्ध डिस्टलरी प्राइवेट लिमिटेड, बलदेव साहू इन्फ्रा लिमिटेड, क्वालिटी बॉटलर्स, किशोर प्रसाद-विजय प्रसाद बिवरेज लिमिटेड और बलदेव साहू इन्फ्रा लिमिटेड जैसी कम्पनियाँ शामिल है। इसके अलावा झारखंड के रांची, संबलपुर, रायडीह और लोहरदगा जैसे इलाकों में भी छापेमारी की गई।

कौन है, धीरज साहू और उनकी फैमिली

साल 2009 में उपचुनाव में धीरज साहू राज्यसभा सांसद बने थे। उसके बाद फिर 2010 में दूसरी बार और 2018 में तीसरी बार में भी वह राज्यसभा में पहुंचे थे। बौद्ध डिस्टलरी जो कि शराब के कारोबार से सम्बन्धित है, इस कंपनी को राज्यसभा सांसद धीरज साहू के परिवार द्वारा संचालित किया जाता है।

धीरज साहू पर आयकर विभाग लगायेगा भारी टैक्‍स और पेनल्‍टी

जैसा कि हमने अभी बताया धीरज साहू के घर पर मारी गई रेड के दौरान आयकर विभाग ने भारी मात्रा में अघोषित आय पकड़ी है। आयकर अधिकारियों ने बताया कि आयकर नियम के अनुसार, अघोषित आय पकड़े जाने पर टैक्‍स के साथ-साथ पेनल्‍टी का भी प्रावधान है। टैक्‍स स्‍लैब के हिसाब से 300 फीसदी तक टैक्‍स और पेनल्‍टी लगाया जा सकता है। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि, नियम के मुताबिक धीरज साहू के ठिकानों से मिली संपत्ति उन्‍हें वापस मिलना मुश्किल है। साथ ही और टैक्‍स भी देना पड़ सकता है।

उन्‍होंने यह भी बताया कि अघोषित संपत्ति के मामले में आयकर विभाग की ओर से अधिकतम 33 फीसदी का टैक्‍स लगता है, जिसमें 3 फीसदी सरचार्ज होता है। इसके बाद 200 फीसदी तक पेनल्‍टी लगाई जा सकती है। नियम के मुताबिक अगर पकड़ी गई संपत्ति चालू वित्त में अर्जित की गई है तो फिर उस पर कुल 84 फीसदी टैक्स और पेनल्टी वसूली जाएगी, लेकिन अगर यह काली कमाई बीते वर्षों की है, तो फिर उस पर 99% तक टैक्स और पेनल्टी वसूली जा सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *