Amrit and Vande Bharat Train: वंदे भारत के बाद, सुविधा से परिपूर्ण अमृत भारत ट्रेन,आईए जाने इसके बारे मे

Amrit and Vande Bharat Train: पीएम नरेंद्र मोदी आज उत्तर प्रदेश के अयोध्या से अमृत भारत ट्रेन को हरी झंडी दिखाएंगे। इस ट्रेन में केवल द्वितीय श्रेणी और शयनयान श्रेणी के डिब्बे मौजूद है। अमृत भारत ट्रेन की कुछ फोटो और उसकी वीडियो सोशल मिडिया पे छाई है।

बता दे आज,पीएम नरेंद्र मोदी अयोध्या धाम रेलवे स्टेशन का भी उद्घाटन करेंगे,साथ साथ अमृत भारत ट्रेन को हरी झंडी दिखाएंगे। अमृत भारत ट्रेन की अंदर की कुछ पिक्चर्स खूब वायरल हो रही है। यह ट्रेन आज अयोध्या से दिल्ली के लिए प्रस्थान करेगी। अमृत भारत ट्रेन की मॉडल बिल्कुल वंदे भारत ट्रेन जैसी है।

यह पहला पुल-पुश ट्रेन है। इसमें दो इंजन है, दूसरा इंजन ट्रेन के आखिरी कोच के बाद लगा है। यह ट्रेन 130 किलोमीटर की रफ्तार से दौड़ेगी तथा यह दो इंजन वाली ट्रेन हैआगे का इंजन ट्रेन को खींचेगी जबकि पीछे का इंजन धक्का देगी। इन सब की जानकारी सोमवार को रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने दी।और उन्होंने बताया कि इस तरह की ट्रेन सभी रूट पर चलाई जाएगी,और 20 से 30 अमृत भारत जैसी ट्रेने बनाए जाने की संभावना है।

Also Read – Film Merry Christmas: कैटरीना-सेतुपति ने बताई फिल्म मैरी क्रिसमस की शूटिंग के दौरान पर्दे के पीछे की कहानी

रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा रेल को खींचना के लिए दो तकनीक होती है,पहले डिसटीब्युटेड पावर जिसमें हर दूसरे और तीसरे कोच में मोटर लगी होती है और ऊपर से बिजली आती है वंदे भारत ट्रेन इसी तकनीक पर बनाई गई है।और दूसरा तकनीक जिसमें अमृत भारत ट्रेन में देखने को मिल रहा है- पुल और पुश।

लोगों की सुविधा के लिए रखा गया है विशेष ख्याल

दोनों तकनीक से परिपूर्ण वंदे भारत ट्रेन बनाया गया था। वंदे भारत ट्रेन डिसटीब्युटेड पावर और पूल पुश टेक्नोलॉजी से अमृत भारत ट्रेन बनाया गया। बात करें अमृत भारत ट्रेन की तो यह नॉन एसी ट्रेन है जबकि वंदे भारत ट्रेन फुल्ली ऐसी ट्रेन है। अमृत भारत ट्रेन पूरी तरह शीशे से कभर है।


ट्रेन चालक को किसी प्रकार की असुविधा ना हो इसलिए चालक केबिन में एयर कंडीशनर लगाया गया है। चालक के केबिन में वाइब्रेशन भी काम होगी। ट्रेन की टकराने की संभावना काफी कम होगी क्योंकि ट्रेन में कवच लगे हैंयात्रियों के असुविधा ना हो इसलिए उनके लिए अच्छी सिट और चार्जिंग पॉइंट की व्यवस्था की गई है। बात करें जनरल कोच की तो उसकी ऊपर वाली सीट कुशन की हैं, जिससे यात्रियों के सफर काफी आनंदमय में होंगे।

झटका भी नहीं लगेंगे और समय की बचत भी होगी

रेल मंत्री के अनुसार ट्रेन जब चलती है तो धीरे और तेज होती रहती है जीस कारण झटके भी महसूस होते हैं। जबकि पुल- पुश तकनीक से ट्रेन का एक्सीलरेशन ज्यादा होने से झटका नहीं लगेंगे,तथा ट्रेन का रफ्तार भी काफी तेज रहेगा। और समय का काफी बचत होगा।मान लीजिए यह ट्रेन दिल्ली से कोलकाता तक जाती है तो करीब 2 घंटे का समय बचेगा।

अब जो ट्रेन बनाई जा रहे हैं उसमें काफी बड़े-बड़े बदलाव किए जा रहे हैं। टॉयलेट में पानी कम बर्बाद होगा। बता दे अमृत भारत ट्रेन में दो कोच के बीच सेमी परमानेंट कपलर लगाए गए हैं,इस दौरान जब ट्रेन चलेगी या रुकेगी तो झटका महसूस नहीं होंगे।सेमी परमानेंट कपलर के जरिए ट्रेन के दो डिब्बे एक दूसरे से परमानेंट जुड़े होंगे। पहले की ट्रेनों में सीबीसी कपलर लगे होते थे जीस कारण डिब्बो को अलग किया जा सकता था

Also Read – Dunki Box Office Collection Day 9: रिलीज के दूसरे शुक्रवार फिल्म ने कमाए ₹7.25 करोड़, वीकेंड पर बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद

मुक्त पास के आधार पर बने टिकट मान्य नहीं होंगे

जीस तरह से रेलवे कर्मचारीयों को विशेषाधिकार पास,पीटोओ,ड्यूटी पास आदि से जुड़े नियम मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों के समान नहीं होंगे।सांसदों को जारी किए गए पास के खिलाफ टिकटों की बुकिंग, विधायकों विधान परिषद सांसदों को जारी रेल यात्रा कूपन और स्वतंत्रता सेनानी के लिए बुकिंग की अनुमति होगी। क्युकि उनकी प्रतिपूर्ति की जाती है। ट्रेनों और उसके किराए को दर्शाने के लिए सॉफ्टवेयर में आवश्यक बदलाव करने को कहा गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *