A R Rahman Birthday: ए आर रहमान का जन्मदिन जाने क्यों कबूल किया हिंदू से इस्लाम धर्म

A R Rahman Birthday: आज 6 जनवरी को दुनिया के मशहूर म्यूजिक कंपोजर और सिंगर ए आर रहमान का जन्मदिन है। वह दिल को सुकून देने और ऐसी म्यूजिक के लिए जाने जाते हैं जो लोगों के दिल में बस जाते हैं। वे म्यूजिक के साथ-साथ अपने धर्म को लेकर भी काफी चर्चा में रहते हैं क्योंकि उन्होंने बहुत कम उम्र में ही हिंदू धर्म को छोड़ इस्लाम कबूल कर लिया था। आईए जानते हैं उन्होंने क्यों अपनाया इस्लाम धर्म।

जन्म एक हिंदू परिवार में हुआ था

ए आर रहमान का जन्म एक हिंदू परिवार में हुआ था उनका असली नाम दिलीप कुमार था। जानकारी के मुताबिक उनका जन्म 6 जनवरी 1967 को तमिलनाडु में हुआ था। इनका पूरा नाम अरुणाचलम शेखर दिलीप कुमार मुदलियार था। लेकिन बाद में इस्लाम कबूल करने के बाद उन्होंने अपना नाम बदलकर आर रहमान रख लिया।

बताया क्यों बदला धर्म

धर्म बदलने वाली बात पर ए आर रहमान ने एक इंटरव्यू में खुलासा किया था जिसमें उन्होंने कहा कि उनके पिता कैंसर की बीमारी से जूझ रहे थे। उनके आखिरी समय में एक सूफी संत ने उनका इलाज किया था। फिर वे सात आठ सालों के बाद अपने परिवार के साथ दोबारा उस संत से मिलने पहुंचे तो उनकी बातों से प्रभावित हुए और धर्म बदलने का निश्चय किया। उन्होंने आगे कहा कि उनसे मिलने के बाद एक और आध्यात्मिक मार्ग मिला और जिससे बहुत शांति मिली। ए आर रहमान के मुताबिक इस्लाम का मतलब साधारण तरीके से जीवन जीना और मानवीयता है।

Also Read – Koffee With Karan: “कॉफी विद करण 8” मे जाह्नवी कपूर और खुशी कपूर दिखे एक साथ

हिंदू ज्योतिष ने बताया रहमान नाम

ए आर रहमान के मुताबिक वे अपनी बहन की शादी के लिए अपनी मां के साथ उनकी कुंडली दिखाने ज्योतिष के पास गए थे। जब उन्होंने ज्योतिष को इस बारे में बताया तो उन्होंने ए आर रहमान को दो नाम सुझाए अब्दुल रहमान और अब्दुल रहीम। उन्हें अब्दुल रहमान नाम काफी पसंद आया इसके बाद उन्होंने अपना नाम बदल लिया। इसके बाद उन्होंने अपनी मां के कहने पर अपने नाम के आगे अल्लाह रक्खा जोड़ लिया जिसके बाद उनका पूरा नाम ए आर रहमान हो गया। ऐसा बताया जाता है कि जब उन्होंने अपना धर्म परिवर्तन किया था तो वह महज 23 वर्ष के थे।

करियर की शुरुआत

पिता के कैंसर से मृत्यु के बाद रहमान का बचपन काफी संघर्ष भरा रहा। लेकिन उन्होंने कभी हार नहीं मानी। उन्हें बचपन से ही कई सारे संगीत वाद्य यंत्र बजाना आता था। उन्होंने अपने हाई स्कूल के दोस्तों के साथ मिलकर एक बैंड बनाया था। इसके बाद उन्होंने अपनी पढ़ाई छोड़कर संगीत को फुल टाइम देने का निश्चय किया। उन्होंने कई अन्य संगीतकारों के साथ काम करना शुरू किया इसके बाद उन्हें मणि रत्नम की फिल्म रोजा में म्यूजिक कंपोज करने का मौका मिला। उन्हें अपनी पहली ही फिल्म रोजा में संगीत के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार भी मिला।

Also Read – श्रेयस तलपड़े के ठीक होने पर पत्नी दीप्ति ने किया आभार प्रकट बोली, “मेरी जिंदगी, श्रेयस, घर वापस आ गई है…

कई राष्ट्रीय और फिल्म फेयर पुरस्कार जीते

उन्होंने दो ग्रैमी अवार्ड, 6 राष्ट्रीय पुरस्कार और इसके साथ कई फिल्म फेयर पुरस्कार भी जीते हैं।
उनके कुछ मशहूर गाने जैसे दिल से, छैया छैया, रंग दे बसंती, जय हो, मां तुझे सलाम, छोटी सी आशा, आदि गाने काफी सुने जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *