62 साल की महिला दूध बेचकर बन गई करोड़पति, जानें नवलबेन चौधरी की प्रेरणादायक कहानी

Navalben Chaudhary Success Story: अगर कुछ करने का जज्बा हो तो उम्र नहीं देखी जाती और मेहनत और लगन से काम करने से किसी भी काम में सफलता हासिल की जा सकती है। आज हम आपको एक ऐसी ही कहानी बताने जा रहे हैं, जिससे आप भी प्रेरणा ले सकते हैं। यह कहानी गुजरात के बनासकंठा जिले की रहने वाली एक महिला की है, जिनका नाम नवलबेन है।

नवलबेन का पूरा नाम नवलबेन दलसंगभाई चौधरी है। इनकी उम्र 62 वर्ष है, लेकिन वह इस उम्र में भी करोड़ों रूपये का बिजनेस चलती है। दरअसल नवलबेन दूध का उत्पादन कर उसकी सप्लाई करती है। यह मिल्क कंपनी वह अकेले ही चलाती है।

दूध बेचकर सालाना 1 करोड़ रु. से भी ज्यादा की कमाई करती है नवलबेन

नवलबेन ने 80 भैंस और 45 गायें पाल रखी है, जिनसे वह रोज 1 हजार लीटर के लगभग दूध प्राप्त करती है। नवलबेन अपने व्यवसाय से होने वाली कमाई के बारे में बताते हुए कहती हैं कि मैंने साल 2019 में दूध बेचकर लगभग 87.95 लाख रुपए तक कमाए थे। जबकि साल 2020 में 1 करोड़ 10 लाख रुपए का दूध बेचा था और तब से अभी तक वह इस व्यवसाय में पहले नंबर पर ही बनी हुई है।

इस तरह हुई मिल्क कंपनी की शुरुआत

नवलबेन बताती है की जब उनकी शादी हुई थी तो उनके ससुराल नगाणा गांव में सिर्फ 15-20 पशु थे। इसके बाद नवलबेन ने अपनी मेहनत व सूझबूझ से इस व्यवसाय को आगे बढ़ाया। पिछले पांच वर्षों में एक लाख से अधिक महिलाएं उनके साथ इस व्यवसाय से जुड़ी चुकी हैं। कई महिलाओं ने तो अन्य महिलाओं को भी जोड़ा है। साथ ही नवलबेन ने बताया कि उनके चार बेटे हैं और एमए, बीएड कर चारों अब शहरों में नौकरी कर रहे हैं और वह भी अब इस व्यवसाय में उनकी मदद करने लगे हैं।

जीत चुकी है कई अवॉर्ड

नवलबेन को उनके इस कार्य के लिए बनासकांठा जिले के दो लक्ष्मी अवॉर्ड के अलावा तीन बेस्ट पशुपालक अवॉर्ड से भी नवाजा जा चुका है। यह अवार्ड स्वयं मुख्यमंत्री द्वारा गांधीनगर में दिए गए थे। नवलबेन का कहना हैं कि, मैं भी ‘आत्मनिर्भर भारत’ के सपने को साकार कर रही हूं।

लोगों के लिए बनी रोजगार का जरिया

नवलबेन के इस व्यवसाय से गांव के 11 लोगों को भी रोजगार मिला हुआ है। यह लोग पशुओं की देखभाल करने के साथ-साथ दूध निकालने और साफ-सफाई का काम करते हैं। हालाँकि इस व्यवसाय की पूरी जिम्मेदारी अकेली नवलबेन की ही है। वह रोज सुबह-शाम खुद भी श्रमिकों के साथ दूध दुहाने का काम करती है। यही नहीं नवलबेन से प्रेरित होकर उनके आस-पड़ोस के इलाकों में भी लोगों ने इसी प्रकार के व्यवसाय करना शुरू कर दिए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *